Dark Mode
Monday, 06 February 2023
Logo
जनगणना एक परिचय

जनगणना एक परिचय

भारत में पहली जनगणना 1881 ई0 में किया गया था | उस समय भारत की कूल आबादी 25.38 करोड़ थी उसी समय से जनगणना प्रत्येक 10 साल पर जनगणना हो रही है |1931 ई0 में अंतिम बार जातिगत जनगणना अर्थात् जातिवार आंकड़े दिए गए|उस समय अलग-अलग रियासतें में आंकड़े जरी हुए थे|उस समय बिहार और उड़ीसा एक ही रियासत थे|इस रियासत में उस समय कूल 23 से ज्यादे जातियां जानकारी में थे|उस समय ग्वाला(अहीर) 34.55 लाख, (लगभग)21 लाख से अधिक ब्रह्मण ,9 लाख भूमिहार ब्रह्मण ,14.52 कुर्मी,14.52 राजपूत12.96 चमार, 12.90 लाख दुसाध,9.83 जोलहा, 4 लाख लगभग धोबी,12.10 तेली,10.10 खंदेत,और 2 लाख अधिक बनिया|आजादी के बाद 1951 मेंअनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति  का जातिवार आंकड़ा प्रकाशित हुआ है जबकि ओबीसी का जातियों का डेटा नहीं आता है, इससेओबीसी के आबादी का अनुमान लगाना मुश्किल होता है | 1931 की जनगणना के आधार पर ही देश में ओबीसी की आबादी 52% होने का अनुमान लगाया गया था उसी आधार बीपी सिंह सरकार  मंडल कमीशन की सिफारिश लागु कर पिछड़ों को 52% आरक्षण दिया था |

 

Comment / Reply From